satta khabar,khabar satta ki, यहां मिलती है सट्टा से संबंधित पहली खबर। इस न्यूज़ पोर्टल के माध्यम से देश दुनिया की सत्ता से जुडी एवं राजनातिक पहलुओं की हर एक खबरों को आप लोगों तक पहुंचाते हैं

Sunday, 4 October 2020

अबआपके गांव में होगा कृषि उपज मंडी।Farmer producer organization लाया किसानों के लिए सुनहरा अवसर।


satta khabar, farmer producer organization

गरियाबंद।farrmer producer organization ने किसानों के लिए गांव-गांव में कृषि मंडी की सुविधाएं उपलब्ध कराने जा रही है। जिससे किसान अब बेफिक्र होकर खेती-बाड़ी कर सकेंगे और अपना उत्पाद अपने ही गांव में बेच सकेंगे।

farrmer producer organization के वर्कर गांव-गांव में जाकर किसानों को समुह में सब्जी की खेती करने की सलाह दे रहे हैं। धान की फसल से ज्यादा साक-सब्जी की खेती से अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है यदि समुदाय में किसान सब्जी की खेती करता है तो गांव तक मंडी उपलब्ध कराई जाएगी।

यह भी पढ़ें...

केंद्र सरकार ने खरीफ फसल क्रय हेतु छत्तीसगढ़ राज्य...

अधिकतर किसान बाजार उपलब्ध न होने के कारण अथवा समय के अभाव में अपना उत्पाद समय पर विक्रय नहीं पाया न ही उचित मूल्य मिल पाता है।

आपको बता दें कि FPO एक संस्था है जो किसानों को लाभ पहुंचाने की उद्देश्य से गांव-गांव में जाकर किसानों को प्रेरित कर रही है कि कम जमीन पर कम समय में अधिक मुनाफा कैसे कमाया जा सकता है।

FPO संस्था में जुड़ने की अहर्ताएं

आपके गांव मे किसान लोगो का समुह बनाना है कम से कम 20 सदस्य का समूह। 20 से अधिक किसानों कुछ भी समूह स्वीकार किया जाएगा।

FP0 का full form farmer producer organization है जिसे FPO नाम दिया गया है किसानों का कंपनी बनेगा जिसका नाम होगा फ्रार्मर प्रोड्यूसर कंपनी

1.समुह मे 20 सदस्य होना अनिवार्य।2.हर सदस्य को 2000/-जमा करना होगा।3.समुह मे सभी सदस्य के आधार कार्ड रिनपुस्तिका पट्टा एक फोटो देना होगा।4.समुह को उनके जमीन के हिसाब से लोन मिलेगा kcc ब्यक्तिगत5.समुह मे भी लोन बिना ब्याज के मिलेगा 6.कोई भी ब्यसाय चयन होने पर किसानों को कंही जाने जरुरत नहीं पड़ती 7.समुह मे एक किसान लिडर अथव मुखिया होगा 8.समुह मे किये जाने वाला कार्य 9.जैविक धान 10.सब्जी 11.बकरी पालन 12.मत्यस्य पालन 13. मशरुम उदपादन 14.उडद कि खेती 15.तिल की खेती 16. सुरज मुखी 17. फल्ली 18. जाम 19.आम 20. पपीता 21.निबु 21. कटहल 22. जो आपके क्षेत्र मे होने फसल को वही प्रोजेक्ट बना कर किया जायेगा 23. शासन की कृषि विभाग व उद्यानिकी विभाग के जितने भी योजना है वो सब समुह को मिलेगा। 24. हर सदस्य का 2000/-रुपये. शासन उनके साथ 2000/-साथ मिला कर 4000/-देगा जो 2000/-रूपये निःशुल्क होगा।

                       DISCLAIMER

यदि किसी भी किसान अथवा कृषि समूह के साथ किसी भी संस्था अथवा प्राईवेट कंपनी द्वारा प्रलोभन देकर ठगी या धोखाधड़ी करता है तो उसके लिए हम और हमारी साइट sattakhabar.co की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी। अतः आप स्व विवेक से निर्णय लेकर किसी भी जोखिम भरे कार्य को करें।

No comments:

Post a comment